कर्ज में डूबी रिलायंस कम्युनिकेशंस (आरकॉम) में कर्मचारियों की संख्या करीब 94 प्रतिशत घटकर 3,400 रह गयी है। एक समय कंपनी में कर्मचारियों की संख्या 52,000 थी।

       

आरकॉम ने बंबई शेयर बाजार को  दी सूचना में कहा, ''आरकॉम समूह में कर्मचारियों की कुल संख्या उच्चतम स्तर 52,000 से घटकर 3,400 पर आ गयी है। कर्मचारियों की कुल संख्या में 94 प्रतिशत की कमी आयी है।


ऐसा माना जाता है कि कंपनी 2008-10 के दौरान शिखर पर थी।

आरकॉम पर फिलहाल 45,000 करोड़ रुपये का कर्ज है। कंपनी ने इस साल जनवरी में अपना मोबाइल सेवा कारोबार बंद कर दिया और 'बिजनेस-टू-बिजनेस स्तर पर दूरसंचार सेवाएं दे रही है।


कंपनी ने कहा कि बी 2 बी इकाई उद्योग में मौजूदा शुल्क युद्ध से बचा हुआ है।


आरकॉम ने कहा, ''एयरटेल, आइडिया, वोडाफोन तथा क्षेत्र में आयी नयी कंपनी रिलायंस जियो के बीच शुल्क में कटौती की होड़ से वायरलेस क्षेत्र में वित्तीय लेखाजोखा प्रभावित हुआ है। अब जब 18 जनवरी को आरकॉम बी2सी (बिजनेस टू कंज्यूमर) सेवा से बाहर हो गयी है, ऐसे में कंपनी पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा।