आध्यात्मिक गुरु भय्यूजी महाराज की मौत के रहस्यों की गुत्थी उलझती जा रही है. भय्यूजी महाराज के द्वारा लिखे गए सुसाइड नोट ने कई सवाल खड़े कर दिए हैं. आम लोगों और भय्यूजी महाराज के रिश्तेदारों के बाद उनके सुसाइड नोट पर अब उनके परिजन ही सवाल उठा रहे हैं.


दरअसल, भय्यूजी महाराज ने सुसाइड नोट के दूसरे पन्‍ने में अपने आश्रम, प्रॉपर्टी और वित्‍तीय शक्‍तियों की सारी जिम्‍मेदारी अपने वफादार सेवादार विनायक को सौंप दी है. सूत्रों के हवाले से खबर मिली है कि आम लोगों के बाद उनके सुसाइड नोट पर अब उनके परिजन ही सवाल उठा रहे हैं. हालांकि अभी कोई खुलकर इस बारे में बात नहीं कर रहा है. भय्यूजी के परिवार से कोई भी अभी तक मीडिया से बात नहीं कर रहा है. लेकिन सुसाइड नोट पर सवाल खड़े होने शुरू हो गए हैं. पुलिस इस मामले से निपटने के लिए हैंडराइटिंग एक्सपर्ट की मदद लेने जा रही है.


विनायक के दखल से खुश नहीं थे रिश्तेदार 

सूत्रों का यह भी कहना है कि इस पर शक जताया जा रहा है कि सुसाइड नोट भय्यूजी ने ही लिखा है. वहीं भय्यूजी महाराज के रिश्तेदारों का भी कहना है कि वह सभी मामलों में विनायक के दखल से खुश नहीं थे. दरअसल, विनायक पर दिवंगत भय्यूजी महाराज को इतना भरोसा था कि उनकी जिंदगी से जुड़ी हर बात विनायक को पता होती थी. उनके हर फैसले में विनायक सहभागी होते थे. महाराज भी उनकी बात का आदर करते थे.पुलिस ने पत्नी सहित लिए 7 लोगों के बयान

सुसाइड नोट के बारे में विनायक की तरफ से भी कोई बयान नहीं आया है. पुलिस कई एंगल पर जांच कर रही है. भय्यू महाराज ने सुसाइड नोट में बेटी का जिक्र नहीं करते हुए सेवादार विनायक को ही क्यों सर्वेसर्वा बताया? पत्नी से रिश्ते अच्छे थे तो उसे भी संपत्ति और व्यावसायिक मामलों की जिम्मेदारी क्यों नहीं दी? उन्हें बेटी से नहीं मिलने देने की साजिश तो नहीं थी? इस मामले में पुलिस ने भय्यूजी महाराज की पत्नी व घर में रहने वाले 7 लोगों के बयान लिए हैं.अंतिम वक्त में घर पर ही थे विनायक

भय्यूजी महाराज की मौत की खबर के बाद यह बार-बार बताया गया कि उस समय विनायक महाराज की बेटी कुहू को लेने पुणे गए हुए थे लेकिन जिस समय महाराज की मौत हुई विनायक घर पर ही थे. उनके सुसाइड करने के वक्त घर में बुजुर्ग मां के अलावा विनायक भी मौजूद थे.


डीआईजी ने बताया कैसे चल रही है जांच

इंदौर संभाग के डीआईजी हरिनारायणाचारी मिश्र ने मीडिया को बताया कि उनकी मोबाइल की सीडीआर और डेटा चेक करवाया जा रहा है. कम्प्यूटर, गैजेट्स, मोबाइल जब्त किए गए हैं.