नई दिल्ली उत्तरी दिल्ली के बुराड़ी इलाके में प्रोपर्टी डीलर पवन कुमार त्यागी अपने घर में एक पूजा का आयोजन करने जा रहे हैं। उनसे जब इसकी वजह पूछी गई तो उन्होंने देश को हिला देने वाले सनसनीखेज 'बुराड़ी कांड' की तरफ इशारा किया। पवन कुमार त्यागी का घर भाटिया परिवार के घर के ठीक पीछे है। वही भाटिया परिवार जिसके 11 सदस्य घर में मृत पाए गए थे। 1 जुलाई को इस परिवार के 10 सदस्यों के शव छत से लगी लोहे की जाली से लटकते पाये गये थे। एक का शव जमीन पर पड़ा पाया गया था। त्यागी ने कहा कि वह परेशान हैं। 


त्यागी ने कहा, 'मैं अंधविश्वासी नहीं हूं लेकिन शुद्धिकरण जरूरी है। मेरी कॉलेज जाने वाली बेटी इस भयावह घटना से डरी हुई है। मुझे लगता है कि पूजा से उसमें डर कम होगा, उसमें फिर से हिम्मत और साहस पैदा होगा।' 


त्यागी को थोड़ी राहत इस बात की है कि भाटिया परिवार और उनके घर के बीच एक प्लॉट पड़ा है। इस प्लॉट की वजह से उनका घर भाटिया परिवार के घर से सटने से बच रहा है।


त्यागी ने कहा इस वारदात के बाद इलाके में भूत-प्रेत, आत्माओं के भटकने व तंत्र-मंत्र जैसी अफवाहें काफी ज्यादा फैली हुई हैं। इससे भाटिया हाउस के आसपास जितने भी घर या प्लॉट हैं, उनके दामों पर बुरा असर पड़ेगा। उम्मीद है कि इलाके में अन्य प्रोपर्टी के साथ ऐसा नहीं होगा।  


इलाके में रहने वाले केएल भारद्वाज ने कहा कि टीवी चैनलों ने इन मौतों को तंत्र-मंत्र से जोड़कर जिस तरह से दिखाया, उससे लंबे समय में काफी बुरा असर होगा। लोग यहां प्लॉट या घर खरीदने से डरेंगे। कोई फ्लैट किराये पर नहीं लेगा। यहां तक कि ऑटो व कैब वाले भी यहां आने से परहेज करेंगे। 


पिछले एक दशक में बुराड़ी में प्रॉपर्टी के दाम तेजी से बढ़े हैं। बुराड़ी के संत नगर में रियल्टी डीलर ग्यानेन्द्र कुमार ने बताया कि पार्किंग सुविधा के साथ यहां प्रति वर्ग फीट जमीन 3 हजार से 6 हजार के बीच है। पिछले 10 सालों में प्रोपर्टी रेट्स 50 से 70 प्रतिशत बढ़े हैं। लेकिन अब इस कांड के बाद घर खरीदार यहां प्रोपर्टी खरीदने से पहले कई बार सोचेंगे। 


एक स्थानीय पुलिस ऑफिसर ने बताया कि पिछले एक सप्ताह में इलाके में रहने वाले लोगों की कुछ पत्रकारों के साथ कहा-सुनी भी हुई है। ये पत्रकार एक शो के लिए भाटिया हाउस के पास तांत्रिक बाबा को ले आए थे। कुछ तो यूट्यूब पर वीडियो पोस्ट करने के लिए यहां डरावना माहौल बनाकर शूट करना चाह रहे थे। 


कम से कम चार किरायेदार घर खाली कर दूसरे इलाके में जा चुके हैं। जो जुलाई में आ रहे थे उन्होंने यहां रहने का प्लान कैंसिल कर दिया है। 


बुराड़ी कांड से कुछ दिन पहले भाटिया हाउस से 100 मीटर की दूरी पर एक गैंगवार में चार लोगों की मौत हो गई थी। 2016 में यहां एक 21 साल की युवती की हत्या कर दी गई थी। 


स्थानीय नागरिक टीपी शर्मा ने कहा कि इलाके के काफी लोगों को शक है कि प्रोपर्टी डीलर भूत-प्रेत की अफवाह फैला रहे हैं ताकि लोग उन्हें सस्ते में अपनी प्रोपर्टी बेच दें। लेकिन ये इलाका मार्केट के पास है, भविष्य में खरीदार मिल जाएगा।