नैरोबी: तंजानिया के विक्टोरिया झील में एक नौका के डूबने की घटना में मरने वालों की संख्या बढ़कर 131 हो गई है. घटना के बाद तंजानिया के राष्ट्रपति जॉन मैगुफुली ने घटना के जिम्मेदार लोगों की तत्काल गिरफ्तारी के आदेश दिए हैं.  राहत एवं बचावकर्मी अभी भी विक्टोरिया झील में अन्य लापता लोगों की तलाश करने और राहत कार्य में जुटे हुए हैं.

मीडिया के मुताबिक 'एमवी न्येरेरी' नाम की नौका पर क्षमता से दोगुना, करीब 200 यात्री सवार थे. यह नौका गुरूवार को उकारा द्वीप पर तट के पास डूब गयी थी.  घटना के बाद तंजानिया के राष्ट्रपति जॉन मैगुफुली ने चार दिन के राष्ट्रीय शोक की घोषणा की है.
गुरुवार को हुई इस घटना में 79 लोगों की मौत की पुष्टि की गई थी. लेकिन यह संख्या बढ़कर 131 पहुंच चुकी है. हादसे के बाद मीडिया में आई खबरों में माना जा रहा था कि नौका पर क्षमता से अधिक 400 से 500 लोग सवार रहे होंगे. घटना के तुरंत बाद चलाए गए बचाव अभियान में 37 लोगों को बचाया गया था. 

'एमवी न्येरेरी' नामक यह नौका बुगोरोरा से उकारा आइसलैंड की ओर जा रही थी. माना जा रहा है की नौके पर सवार लोगों का नाव के एक तरफ दबाव बढ़ने के कारण नौका डूब गयी. अफ्रीका के सबसे बड़े विक्टोरिया झील में चल रहें इस बचाव अभियान में सरकार की एजेंसियों के अलावा स्थानीय मछुआरें भी लगें हुए हैं. 

बता दें कि पूर्वी अफ्रीकी देश में नाव दुर्घटनाएं आम बात हैं. इससे पहले भी  2012 में हिंद महासागर में जंजीबार द्वीप के करीब एक जहाज डूबने के कारण 145 लोगों की मौत हो गई थी.