नई दिल्ली: पत्रकारिता की पहली ही क्लास में बताया जाता है कि पत्रकार बनने के लिए निर्भीक और निष्पक्ष होना सबसे पहली जरूरत है. इसकी सबसे बड़ी वजह यह है कि पत्रकार को सत्ता पर आसीन लोगों से सवाल पूछने होते हैं. इस सबक को अमेरिकी पत्रकार ने सार्थक कर दिखाया है. सीएनएन के पत्रकार जिम अकोस्टा ने निर्भीक होकर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से सवाल पूछे हैं. इसके एवज में भरी प्रेस कांफ्रेंस में उन्हें ट्रंप के गुस्से का सामना करना पड़ा. ऐसे में दुनियाभर में चर्चा हो रही है कि भला वह कौन हिम्मती पत्रकार है जिसने दुनिया के सबसे ताकतवर शख्स से पंगा लेने की हिम्मत दिखाई है. पिछले दो दिनों में अमेरिकी पत्रकार जिम अकोस्टा और डोनाल्ड ट्रंप के बीच हुई बकझक से जुड़ी कई खबरें मीडिया में आई हैं. ऐसे में हम जिम अकोस्टा के जीवन से जुड़ी कुछ बातें आपको बता रहे हैं.
पहले भी हो चुकी है ट्रंप और अकोस्टा की भिड़ंत
जिम अकोस्टा पहले भी सवाल पूछने को लेकर डोनाल्ड ट्रंप से भीड़ चुके हैं. 11 जनवरी 2017 को अमेरिका के निर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पहली बार प्रेस कांफ्रेंस कर रहे थे. इस दौरान वह एक पत्रकार से उलझ गए. वह पत्रकार कोई और नहीं जिम अकोस्टा ही थे. उस वक्त ट्रंप ने जिम अकोस्टा को सवाल नहीं करने दिया और उनके समाचार नेटवर्क को 'फर्जी खबर' कहा था.
ट्रंप ने बजफीड के माध्यम से अपुष्ट डोजियर जारी किए जाने के मामले पर सीएनएन के रिपोर्टर से बतकही करने लगे. जारी किए गए डोजियर को 'कचरा' बताया था. प्रेस वार्ता के दौरान जब ट्रंप एक अन्य को पत्रकार को सवाल पूछने के लिए कह रहे थे, उसी दौरान सीएनएन रिपोर्टर जिम एकोस्टा ने चिल्ला कर कहा- 'आप हम पर हमला बोल रहे हैं, क्या आपसे एक सवाल कर सकते हैं?' इस पर ट्रंप ने कहा कि 'आप नहीं'. ट्रंप ने रिपोर्टर से यहां तक कहा कि 'आप का संस्थान बहुत ही खराब है.' एकोस्टा ने फिर से कहा कि 'आप हमारे समाचार संस्थान को बुरा भला कह रहे हैं, क्या हम आप हमें एक सवाल करने का अवसर दे सकते हैं श्रीमान्?' ट्रंप ने कहा- 'अशिष्ट ना बनें. मैं आपको सवाल पूछने का अवसर नहीं दे सकता आप फर्जी खबर हैं.'
वाशिंगटन डीसी में जन्में हैं जिम अकोस्टा
पत्रकार जिम अकोस्टा का जन्म अप्रैल 1971 में अमेरिका के वाशिंगटन डीसी में हुआ था. उनका बचपन वर्जीनिया में बीता है. 1989 में स्कूल खत्म करने के बाद उन्होंने 1993 में जेम्स मैडिसन विश्वविद्यालय से मास कम्यूनिकेशन (राजनीतिक शास्त्र) में ग्रेजुएशन किया.उन्होंने अपने पत्रकारिका के करियर की शुरुआत रेडियो स्टेशन से शुरू की. इसके बाद वह WTTG-TV, KTVT-TV होते हुए 2003 में सीबीएस न्यूज में रिपोर्टर बने. यहां उन्होंने साल 2007 तक नौकरी की. इसके बाद से वह लगातार सीएनएन में नौकरी कर रहे हैं. जिम अकोस्टा के व्यक्तिगत जीवन की बात करें तो उनके तीन बच्चे हैं. हार्टी और पीटर बेटे हैं और एक बेटी है. हालांकि उनका साल 2017 में तलाक हो चुका है.
अकोस्टा को फॉलो करते हैं बराक ओबामा
जिम अकोस्टा ट्विटर पर खासे लोकप्रिय हैं. उनके 997 हजार फॉलोअर हैं. खास बात यह है कि उन्हें पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा भी फॉलो करते हैं. अबतक वे 30.7 K ट्वीट कर चुके हैं.
अकोस्टा के साथ खड़ा है पत्रकार समाज
डोनाल्ड ट्रंप के साथ बहस के बाद पत्रकार समाज जिम अकोस्टा के साथ खड़ा है. सीएनएन ने कहा कि ‘आज की प्रेस कांफ्रेंस में चुनौतीपूर्ण सवाल पूछने के कारण बदले की कार्रवाई करते हुए’ अकोस्टा का पास निलंबित किया गया. यह अभूतपूर्व फैसला हमारे लोकतंत्र के लिए खतरा है और देश इससे बेहतर के काबिल है.’ शाम करीब सात बजे अकोस्टा को सीक्रेट सर्विस के अधिकारियों ने व्हाइट हाउस में दाखिल होने से रोक दिया. 
व्हाइट हाउस संवाददाता संगठन के पूर्व अध्यक्ष जेफ मैसन ने व्हाइट हाउस के इस आरोप को खारिज किया कि अकोस्टा ने महिला इंटर्न पर अपना हाथ रखा था. मैसन ने ट्वीट किया, ‘मैं आज की प्रेस कांफ्रेंस में अकोस्टा के ठीक बगल में बैठा था और उन्हें युवा इंटर्न पर अपना हाथ रखते नहीं देखा.’
न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के संवाददाता मैसन ने सीएनएन संवाददाता अकोस्टा का बचाव करते हुए कहा कि इंटर्न के आने तक अकोस्टा ने माइक पकड़ कर रखा और बाद में अपनी बात साबित करने के लिए प्रेस कांफ्रेंस की कुछ तस्वीरें डालीं. 
पिछले 22 साल से व्हाइट हाउस कवर कर रहे न्यूयॉर्क टाइम्स के पत्रकार पीटर बेकर ने कहा, ‘यह ऐसी चीज है जो मैंने 1996 में व्हाइट हाउस कवर करने की शुरुआत से लेकर अब तक नहीं देखी. दूसरे राष्ट्रपतियों को मुश्किल सवालों से डर नहीं लगता था.’ व्हाइट हाउस संवाददाता संगठन ने यह भी कहा कि ऐसा फैसला ‘‘अस्वीकार्य’’ है. संगठन ने व्हाइट हाउस से ‘‘अपना फैसला तुंरत वापस लेने’’ की अपील की. 
संगठन के अध्यक्ष ओलिवियर नॉक्स ने कहा, ‘पत्रकार अपना काम करने के लिए कई तरीके अपना सकते हैं और व्हाइट हाउस संवाददाता संगठन राष्ट्रपति सहित ताकतवर सरकारी आला अधिकारियों से सवाल पूछने को लेकर अपने सदस्यों के लहजे पर नियंत्रण नहीं करता.’ 
इस बीच, व्हाइट हाउस ने कहा कि वह अपने फैसले पर कायम है. सारा ने एक वीडियो साझा करते हुए कहा, ‘‘हम इस व्यक्ति का हार्ड पास निलंबित करने के अपने फैसले पर कायम हैं. हम इस वीडियो में साफ तौर पर नजर आ रहे अनुचित व्यवहार को बर्दाश्त नहीं करेंगे.’ इस वीडियो में अकोस्टा महिला इंटर्न पर कथित तौर पर अपना हाथ रखते नजर आ रहे हैं.