नई दिल्ली, विवादों से जूझ रही सीबीआई के मुख्यालय के अंदर 'नकारात्मक ऊर्जा खत्म करने के लिए' श्री श्री रविशंकर की संस्था आर्ट ऑफ लिविंग एक वर्कशॉप कराने जा रही है. तीन दिन तक चलने वाले इस ट्रेनिंग सेशन में सीबीआई के 150 अधिकारियों और कर्मचारियों के अंदर सकारात्मक ऊर्जा का संचार कराने की कोशिश की जाएगी.

इस सेशन का आयोजन आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्री श्री रविशंकर कर रहे हैं. वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने सीबीआई के इस आयोजन की कड़ी आलोचना की है.

भूषण ने एक ट्वीट में लिखा, 'डायरेक्टर पद से आलोक वर्मा को हटाने और दागदार अधिकारी नागेश्वर राव को डायरेक्टर बनाने के बाद सीबीआई श्री श्री के तत्वावधान में एक वर्कशॉप कराने जा रही है. इसका मकसद सीबीआई से नकारात्मक ऊर्जा निकाल कर सकारात्मक ऊर्जा भरना है. वो दिन बहुत दिन नहीं जब सीबीआई में हम तांत्रिक, ज्योतिष और सपेरे देखेंगे.' बता दें कि प्रशांत भूषण सीबीआई में जारी विवाद पर लगातार मोदी सरकार को घेर रहे हैं.

 गौरतलब है कि जांच एजेंसी सीबीआई में सकारात्मकता लाने के लिए 10, 11 और 12 नवंबर को एक वर्कशॉप का आयोजन होने जा रहा है. श्री श्री रविशंकर की संस्था आर्ट ऑफ लिविंग 'सिनर्जी प्रोग्राम' नाम से वर्कशॉप आयोजित करेगी. इस प्रोग्राम का मकसद सीबीआई में सकारात्मकता लाने, एकसाथ काम करने की क्षमता बढ़ाने और खुशहाल माहौल तैयार करना है ताकि अधिकारी काम के दौरान अपना सबसे अच्छा योगदान दे सकें.