मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव 2018 मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के जीवन का सबसे कठिन चुनाव बनता जा रहा है. 2003 की जिस विधानसभा में वे मुख्यमंत्री बने, कांग्रेस को उखाड़ने वाला वह चुनाव उमा भारती के नेतृत्व में बीजेपी ने जीता था. उस समय सत्ता की कुर्सी उमा और बाबूलाल गौर से होते हुए किस्मत के धनी शिवराज तक आई थी. उस समय शिवराज इस तरह मुख्यमंत्री बने थे कि लगता था वह किसी की कठपुतली होंगे. उनका नरम व्यक्तित्व, दुबली-पतली काया, सादे सूती कपड़े और देहाती बोली उन्हें इस तरह पेश करती थी जैसे वे अस्थायी तौर पर बनाए गए मुख्यमंत्री हों.

लेकिन शिवराज ने दिखाया कि प्रदेश में स्थापति राजनैतिक प्रभु वर्ग को भले ही उनके ये लक्षण कमजोरी लगते हों, लेकिन असल में उनकी यही छवि उन्हें गुदड़ी का लाल बनाएगी. उनकी आम आदमी वाली सूरत मध्य प्रदेश की जनता को जम गई और वह वहां की सत्ता में जम गए.
2008 का चुनाव शिवराज सिंह चौहान ने ऐसे वक्त में जीता जब पड़ोसी राजस्थान भाजपा के हाथ से निकल गया. यही नहीं पूरे देश में कांग्रेस बढ़त बना रही थी, लेकिन मध्य प्रदेश के द्वार शिवराज ने कांग्रेस के लिए नहीं खुलने दिए. 2013 का चुनाव वह व्यापम घोटाले के अपने चरम पर होने के दौर में लड़ रहे थे. उस समय ऐसा माहौल बन रहा था कि शिवराज कमजोर पड़ते दिख रहे थे. लेकिन तभी देश में मोदी लहर का उठना शुरू हुआ. शिवराज की साख और मोदी के करिश्मे ने 2013 का विधानसभा चुनाव भी शिवराज को बड़ी आसानी से जिता दिया. उसके बाद लोकसभा चुनाव 2014 में भी बाकी हिंदी पट्टी की तरह मध्य प्रदेश ने भी बीजेपी को जबरदस्त जीत दिलाई.
उस लहर से कांग्रेस के दो ही नेता बच सके पहले कमलनाथ और दूसरे ज्योतिरादित्य सिंधिया. अब 2018 में कांग्रेस इन्हीं दो नेताओं को आगे कर चुनाव लड़ रही है. लेकिन शिवराज की असली चुनौती इन नेताओं से नहीं है.

उनकी असली चुनौती यह है कि एक तो प्रदेश में भाजपा सरकार को 15 साल हो गए हैं. इतना समय जनता के बोर होने के लिए काफी है. दूसरे यह 2013 नहीं है जब नरेंद्र मोदी नाम ही हवा चलाने का फॉर्मूला बन गया था. तीसरी बात यह कि किसी को नहीं पता कि अगर भाजपा चौथी बार जीतती है तो शिवराज ही मुख्यमंत्री बनेंगे.

इन बदले हालात से निबटने में जरा सी चूक चौहान के लिए आफत बन सकती है. इस बार भाजपा ने जिस तरह टिकट बांटे हैं, उसमें यह साफ कहा जा सकता है कि टिकट वितरण में शिवराज को उस तरह का खुला हाथ नहीं मिला, जैसा कि पिछले दो विधानसभा चुनाव में उन्हें मिला था. इस बार पार्टी को जिस तरह अपने 5 मंत्रियों सहित 51 विधायकों के टिकट काटने पड़े हैं, उससे साफ समझा जा सकता है कि पार्टी इस चुनाव को लेकर कितनी सतर्क है. एक-एक टिकट फूंक-फूंक कर बांटा गया है.

अगर टिकट वितरण में शिवराज की पूरी तरह नहीं चली तो दूसरे नेताओं की भी नहीं चली. पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय अपने बेटे को तो टिकट दिला ले गए, लेकिन अपना टिकट नहीं बचा पाए. लोकसभाध्यक्ष सुमित्रा महाजन अपने बेटे-बहू को टिकट नहीं दिला पाईं. 10 बार के विधायक पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर का टिकट कट गया और उनकी बहू कृष्णा गौर को भी तब टिकट मिल सका, जब उन्होंने पार्टी छोड़ने की धमकी दे दी. पूर्व मंत्री सरताज सिंह टिकट न मिलने पर कांग्रेस में चले गए और होशंगाबाद से कांग्रेस प्रत्याशी होंगे.
ये सारे कारक बताते हैं कि 2018 में मध्य प्रदेश भाजपा एक कठिन लड़ाई लड़ने की तैयारी कर रही है. इस लड़ाई को लड़ने के लिए केंद्रीय नेतृत्व चीजें खुद अपने हाथ से कर रहा है और प्रदेश के नेतृत्व की भूमिका सीमित है. आरएसएस की तरफ से शीर्ष नेतृत्व को सौंपा गया फीडबैक इस चुनौती को और कठिन बनाने वाला रहा है.

उधर, मध्य प्रदेश में अपना सियासी वर्चस्व कायम करने के बाद से पहली बार ऐसा हो रहा है कि भाजपा को सवर्ण वोटरों के विरोध का सामना करना पड़ा हो. अभी कोई नहीं कह सकता कि भाजपा के साथ बंध चुका यह वोटर किस हद तक उससे कटेगा. कटेगा भी या नहीं. लेकिन इस वोटर ने भाजपा को डरा बुरी तरह से दिया है.

इन सारी बातों को मिलाकर देखें तो ये सब शिवराज का सिरदर्द बढ़ाने वाली चीजें हैं. अगर भाजपा चुनाव जीतती है तो इसका श्रेय केंद्रीय नेतृत्व की रणनीति को जाएगा और अगर भाजपा चुनाव हारती है तो सारा ठीकरा चौहान के माथे पर फूटेगा. चौहान को यह सारी बातें बहुत अच्छी तरह से पता हैं. इसलिए उन्होंने पूरे प्रदेश का कई-कई बार दौरा किया है. उन्होंने इस बात की पूरी कोशिश की है कि आम आदमी तक उनकी सरकारी योजनाएं नारे के बजाय काम के शक्ल में पहुंचें. वे पूरी शिद्दत से लोगों को एहसास करा रहे हैं कि राजे-महाराजे एक किसान के बेटे को तख्त से हटाना चाहते हैं. पार्टी के भीतर भी वह संकेत दे चुके हैं कि दिल्ली के दरबार में मत्था टेकने वाले मठाधीशों को हद से ज्यादा तवज्जो दी गई तो जमीन पर हल चलाने वाले किसान भटक जाएंगे. पूरे देश में भाजपा सरकारों द्वारा चलाई जा रही नाम बदलने की लहर और रह-रहकर मंदिर मुद्दे की शरण में जाने के बजाय शिवराज अब भी अपना काम गिना रहे हैं. वे ऐसा कर पा रहे हैं क्योंकि उन्होंने आम आदमी के लिए काम किया है. लेकिन यह बात खुला रहस्य की इस मुल्क में चुनाव काम पर कम और हवा पर ज्यादा होते हैं. हवा का यही रुख शिवराज की चुनौती है.