मुंबई। मध्‍य  रेल ने बिना टिकट तथा अनियमित यात्रियों के विरूध्‍द सघन अभियान चलाया जिसके परिणाम स्वरूप अप्रैल 2019 से जून 2019 के दौरान 66.98 करोड रूपये टिकट चेकिंग अर्जन दर्ज किया गया. इस प्रकार के अभियान रेल के यात्रियों को बेहतर सेवा देने तथा बिना टिकट यात्रा पर लगाम लगाने के लिए चलाए जाते हैं. इसके लिए मध्‍य रेल द्वारा नियमित रूप से अभिनव कदम उठाए जाते हैं। वरिष्‍ठ अधिकारियों द्वारा बिना टिकट यात्रा से होने वाले राजस्‍व हानि‍ तथा अन्‍य अनियमिताओं की गहन निगरानी रखी जाती है। अप्रैल 2019 से जून 2019 की अवधि के दौरान बिना टिकट/अनियमित यात्रा और बिना -बुक किए गए सामान के कुल 12.01 लाख मामले दर्ज किए गए, जबकि पिछले वर्ष इसी अवधि में 10.85 लाख मामलों में 10.69% की वृद्धि हुई थी। अप्रैल 2019 से जून 2019 की अवधि में इस तरह के बिना टिकट/अनियमित यात्रा से अर्जित आय रु. 66.98 करोड़ दर्ज की गई, जो पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान दर्ज मामलो में रु 59.36 करोड़ की आय की तुलना में 12.84% बढ़ी है। मध्‍य  रेल यात्रियों से अपील करती है कि वे असुविधा से बचने के लिए उचित तथा वैध रेलवे टिकटों के साथ अपनी यात्रा करें।