नई दिल्ली: कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी शनिवार को श्रीनगर के दौरे पर जा सकते हैं. सूत्रों के अनुसार, उनके साथ विपक्षी पार्टियों के 9 और नेता भी जा सकते हैं. हालांकि वह श्रीनगर पहुंच पाएंगे या नहीं इस पर संशय है. अभी जम्मू कश्मीर पुलिस किसी भी बड़े नेता को कश्मीर घाटी में जाने नहीं दे रही है. कुछ दिन पहले जब कांग्रेस सांसद और राज्यसभा में नेता विपक्ष गुलाम नबी आजाद जम्मू पहुंचे थे तब उन्हें भी श्रीनगर जाने नहीं दिया था.

राहुल गांधी की इस यात्रा पर जम्मू-कश्मीर प्रशासन की ओर से कहा गया है कि सभी नेताओं से निवेदन है कि वह अभी श्रीनगर के दौरे से बचें. उनके कारण यहां पर लोगों को भी दिक्कतें हो सकती हैं. अभी भी कई क्षत्रों में कुछ पाबंदियां हैं.

कांग्रेस समेत दूसरे विपक्षी दल लगातार कश्मीर दौरे की मांग कर रहे हैं. लेकिन प्रशासन ने उन्हें अब तक इसकी इजाजत नहीं दी है. खुद कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी इस पर आपत्ति जता चुके हैं. विपक्षी नेता वह उमर अब्दुल्ला, फारुख अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती की रिहाई की मांग कर रहे हैं.


ये नेता जाएंगे

राहुल गांधी
गुलाम नबी आजाद
सीताराम येचुरी
डी राजा
मनोज झा. इसके अलावा डीएमके और समाजवादी पार्टी के नेता भी साथ होंगे.

जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 में बदलाव और 35ए हटाने के बाद से कश्मीरी नेताओं को सरकार ने ऐहतियातन हाउस अरेस्ट किया हुआ है. अब सभी विपक्षी दल इनकी रिहाई की मांग कर रहे हैं.


राज्यपाल से हो चुका है ट्विटर वॉर
जम्मू कश्मीर में दौरे के मुद्दे पर राहुल गांधी और जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक के बीच लंबा ट्विटर वॉर हो चुका है. दरअसल राहुल गांधी ने कश्मीर जाने की इच्छा जताई थी. इसके राज्यपाल मलिक ने कहा था, आप जब चाहेंगे, आपके लिए हैलिकॉप्टर भेज दिया जाएगा.