गया : विश्वप्रसिद्ध पितृपक्ष मेले का गुरुवार को गया में आगाज होगा. मेले को लेकर प्रशासनिक तैयारियां पूरी कर ली गई हैं. पितृपक्ष मेला को यादगार बनाने के लिए जिला प्रशासन ने मेला क्षेत्र में तीर्थयात्रियों के लिए साफ-सफाई, पेयजल, प्रकाश और सुरक्षा व्यवस्था का व्यापक प्रबंध किया है. इसके अलावा अन्य बुनियादी सुविधाओं के साथ-साथ मेला क्षेत्र को दुल्हन की तरह सजाया गया है.

बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी (Sushil Modi) मेला का उद्घाटन गुरूवार को विष्णुपद मंदिर परिसर में करेंगे. उसके बाद विष्णुपद मंदिर परिसर में बने भव्य पंडाल में मंत्रोंच्चार के साथ पितृपक्ष मेला का शुभारंभ हो जाएगा.

पितृपक्ष मेले का शुभारंभ 13 सितम्बर को होगा और 28 सितम्बर को इसका समापन होगा. पिंडदानी पटना जिले के पुनपुन नदी के घाट से स्नान कर पितरों को मोक्ष दिलाने के लिए कर्मकांड की शुरुआत करेंगे. जो तीर्थयात्री पुनपुन घाट नहीं जा पाएंगे वह गया शहर के गोदावरी तालाब से पिंडदान कर 21 कुलों का उद्धार करेंगे.

लगातार 17 दिनों तक गया पंचकोस की विभिन्न वेदियों पर पिंडदान करते-करते आश्विन शुक्लपक्ष प्रतिपदा यानी 28 सितम्बर को कर्मकांड का समापन करेंगे. त्रिपाक्षिक के अलावा मुख्य रूप से एक दिन, तीन, पांच और सात दिनों तक गयाश्राद्ध करने वाले पिंडदानियों का आना शुरू हो गया है. अगले तीन-चार दिनों में पिंडदानियों की भारी भीड़ होगी.