तेहरान । ईरान ने अमेरिकी दबाव को दरकिनार करते हुए दो टूक कहा कि वह अपना तेल निर्यात करने को लेकर किसी भी हद तक जाएगा। ईरान के तेल मंत्री बिजान जांगनेह ने कहा कि तेल निर्यात करना हमारा वैध अधिकार है। हम अमेरिका के दबाव में झुकेंगे नहीं और तेल निर्यात को लेकर हरसंभव कदम उठाएंगे। गौरतलब है कि पिछले साल नवंबर में अमेरिका के प्रतिबंध लगाने के बाद ईरान के कच्चे तेल के निर्यात में 80 फीसदी की कमी आई है। अमेरिकी दबाव के कारण कई विदेशी निवेशक ईरान से दूर जा चुके हैं। पिछले साल चीन की नेशनल पेट्रोलियम कॉर्प ने अमेरिका के दबाव के चलते दक्षिण पास की खाड़ी में निवेश करने से हाथ खींच लिए थे। जांगनेह ने कहा कि चीन के पीछे हटने के बाद पारस की खाड़ी में ईरान की कंपनी यह काम करेगी। उन्होंने कहा कि ईरान अरब देशों के साथ अपने संबंध सुधारना चाहता है। हम सभी खाड़ी देशों को मित्र के तौर पर देखते हैं। हम सभी का दुश्मन मिडिल ईस्ट से बाहर का है। इस बीच, सऊदी अरब की सबसे बड़ी कंपनी अरामको पर हमले के बाद ईरान ने कहा कि हमारा सऊदी से कोई विवाद नहीं है। हमें उनके तेल मंत्री से मिलने में भी परेशानी नहीं है। गौरतलब है कि सऊदी ने हमले के लिए ईरान को जिम्मेदार ठहराया था।