रायपुर : पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के अंतर्गत संचालित राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (बिहान योजना) के तहत स्व-सहायता समूह की ग्रामीण महिलाओं ने ईट बनाकर अपनी जीवन की नींव और इमारत दोनों को मजबूत कर लिया है। आज यह महिलाएं आत्मनिर्भर हो कर दूसरों को भी प्रेरणा दे रही हैं। राजनांदगांव जिले की गठित 733 स्वसहायता समूह की 1983 महिलाओं ने वित्तीय वर्ष 2019-20 में कुल 3 करोड़ 58 लाख ईट का निर्माण किया गया। प्रधानमंत्री आवास निर्माण हेतु ईट की आपूर्ति से 2 करोड़ 57 लाख रूपए की शुद्ध आय स्वसहायता समूह की महिलाओं को प्राप्त हुई।
    इसके अतिरिक्त बिहान योजना से जिले की स्वसहायता समूह की महिलाओं ने अपनी कड़ी मेहनत एवं लगन से विभिन्न गतिविधियां संचालित कर आर्थिक सशक्तिकरण की ओर आगे बढ़ रही है। जिले में बिहान योजना के तहत 17 हजार 552 स्वसहायता समूहों में 1 लाख 92 हजार 959 महिलाओं को शामिल कर उन्हें आजीविका गतिविधियों से जोड़ा जा रहा है। योजना के तहत ईट निर्माण में लगे समूह की इन महिलाओं के पास पर्याप्त पूंजी की उपलब्धता के लिए न्यूनतम ब्याज दर पर बैंकों से ऋण उपलब्ध कराया जा रहा है।
    समूह की ये महिलाएं आजीविका अंतर्गत उन्नत कृषि, पशुपालन एवं व्यावसायिक गतिविधियों से जुड़ रही हैं। पिछले कुछ वर्षो से उनके लिए ईट निर्माण गतिविधि बेहतर आय का जरिया साबित हुई है। प्रति वर्ष जनवरी से मई-जून की अवधि में समूह की महिलाएं ईट निर्माण का कार्य करती हैं। निर्मित ईट की बिक्री से उन्हें अतिरिक्त आय प्राप्त होती है। इन महिलाओं की आजीविका के कार्यों में जिला प्रशासन के अधिकारी भी सहयोग कर रहे हैं। प्रधानमंत्री आवास योजना के लिए भी ईंट निर्माण कर समूह की महिलाओं को अतिरिक्त लाभ प्राप्त हो रहा है। कुछ समूहों द्वारा फ्लाई ऐश ब्रिक का भी निर्माण किया जाता है।