मेलबर्न ।  क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (सीए) ने कहा है कि वह घरेलू शेफील्ड शील्ड टूर्नामेंट के अगले सत्र में ड्यूक्स गेंदों का का इस्तेमाल नहीं करेगा। उसने अब तक के चार सत्र में कूकाबुरा के साथ ड्यूक्स गेंदों का भी उपयोग किया था। सीए ने कहा कि 2020-21 के पूरे प्रथम श्रेणी सत्र में कूकाबूरा गेंदों का इस्तेमाल किया जाएगा। ऑस्ट्रेलिया 2016-17 के सत्र से ही शेफील्ड मैचों में ड्यूक्स गेंदों का उपयोग कर रहा था, ताकि उसके क्रिकेटर इंग्लैंड के कठिन हालातों के लिए तैयार हो सकें। क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के क्रिकेट संचालन प्रमुख पीटर रोच ने भी ड्यूक्स गेंदों का उपयोग नहीं करने के फैसले को सही बताया है। रोच ने कहा, ‘ड्यूक्स गेंदों का उपयोग करना सार्थक प्रयास था, विशेषकर इंग्लैंड में होने वाली एशेज सीरीज को देखते हुए, जहां हमारा प्रतिद्वंद्वी ड्यूक्स गेंदों का उपयोग करता है।’ उन्होंने कहा, ‘हालांकि हमारा मानना है कि 2020-21 सत्र में केवल एक तरह की गेंद का उपयोग करने से हमारे खिलाड़ियों को पूरे सत्र में लगातार चुनौती का सामना करना पड़ेगा तथा सीए और प्रांतीय संघ भी अभी ऐसा चाहते हैं।' उन्होंने कहा, 'कूकाबूरा गेंद ऑस्ट्रेलिया में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट और दुनिया के कई हिस्सों में उपयोग की जाती है और हमें इस सत्र में इसका अधिकतम उपयोग करने में फायदे नजर आते हैं।’ रोच ने कहा कि हाल के वर्षों में प्रथम श्रेणी क्रिकेट में स्पिनरों का प्रभाव कम हुआ और इसने ड्यूक्स का उपयोग नहीं करने के फैसले में अहम भूमिका निभाई है।