नई दिल्ली । कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी चीनी घुसपैठ के मुद्दे पर लगातार केंद्र सरकार पर हमलावर  है। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने ट्वीट कर राहुल गांधी के बयान पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि रक्षा संबंधी संसद की स्थाई समिति की बैठक में कभी नहीं गए और रक्षा मामलों और सेना पर हर रोज सवाल उठाते हैं।
राहुल गांधी मे कहा कि देशभक्त लद्दाखवासी चीनी घुसपैठ के खिलाफ आवाज उठा रहे हैं और सरकार को उनकी सुननी चाहिए क्योंकि यदि उनकी बात को नजरअंदाज किया गया तो देश को इसकी भारी कीमत चुकानी पड़ेगी। उन्होंने एक खबर का हवाला देते हुए ट्वीट किया था, 'देशभक्त लद्दाखवासी चीनी घुसपैठ के खिलाफ आवाज उठा रहे हैं। वे आगाह कर रहे हैं। उनकी बात की उपेक्षा करने की भारत को भारी कीमत चुकानी पड़ेगी।' राहुल गांधी ने कहा, 'कृपया, भारत की खातिर उन्हें सुनिए।' राहुल गांधी ने जिस खबर का हवाला दिया था, उसके मुताबिक कई लद्दाखवासियों ने कहा है कि चीन ने भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ की है। गौरतलब है कि लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर पिछले कई हफ्तों से गतिरोध चल रहा है। गत 15-16 जून की रात दोनों देशों के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प में 20 भारतीय जवान शहीद हो गए थे। इस झड़प में चीनी पक्ष को भी नुकसान होने की खबरें हैं।
मालूम हो कि राहुल गांधी चीन के साथ जारी गतिरोध के बीच लगातार केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार को घेरने की कोशिश कर रहे हैं। पीएम मोदी के लद्दाख दौरे के बाद उन्होंने एक वीडियो ट्वीट किया था। इसमें लद्दाख के लोग चीन द्वारा देश की जमीन कब्जाने की बात कह रहे हैं।
वीडियो के साथ राहुल ने लिखा- 'लद्दाखी कहते हैं- चीन में हमारी जमीन कब्जाई है। प्रधानमंत्री कहते हैं- किसी ने हमारी जमीन नहीं ली। साफ सी बात है कि कोई तो झूठ बोल रहा है।' बता दें कि हाल ही में गलवान घाटी में हुई झड़प के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि चीन ने हमारी किसी जगह पर कब्जा नहीं किया है।