समाज में ऐसे कई लोग हैं जिन्हें लगता है, कि समाज को लड़कियों की जरूरत नहीं है. तभी तो मां के गर्भ में ही लड़की को मार दिया जाता है. लेकिन क्या सचमुच समाज को लड़कियों की जरूरत नहीं है? क्या महिला ना रहे तो पुरुषों की जिंदगी अच्छे से गुजर सकती हैं.

मध्यप्रदेश के शिवपुर गाव धड़िया प्रथा काफी प्रचलित हैं. शिवपुर गांव में इस प्रथा के बारे में आपको हर कोई बता देगा। इस प्रथा के अनुसार स्टांप पेपर पर साइन करके आप मनपसंद लड़की को अपनी पत्नी बना सकते है.

क्यों बनाई गयी है यह प्रथा?

धड़िया प्रथा एक ऐसी प्रथा है जहां कोई भी पुरुष अमीर हो या गरीब अपनी मनपसंद लड़की के लिए तय रकम के अनुसार एक स्टांप पेपर पर साइन करके उससे कुछ समय के लिए अपने साथ पत्नी बनाकर घर ले जाता है. वह लड़की पत्नी बन कर कर्तव्य को निभाती है. लेकिन दोनों एक दूसरे से शादी नहीं करते. बिना शादी किए दोनों एक दूसरे के साथ पति पत्नी की तरह रहते हैं.

यदि व्यक्ति को लगे कि उसे और ज्यादा समय उस लड़की के साथ रहना है, तो ज्यादा पैसे देकर उस लड़की को अपने साथ रख सकता है. या फिर किसी दूसरी लड़की को खरीद सकता है. लड़कियों की कमी होने के वजह से लोगों ने इस प्रथा को बनाया है.