नई दिल्ली , अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के टैक्स दस्तावेजों के सामने आने से कई हैरान करने वाले आंकड़े सामने आये हैं. उन्होंने साल 2016 और 2017 में हर साल महज 750 डॉलर (करीब 55 हजार रुपये) का ही टैक्स अमेरिका में दिया था. 

चुनाव के मौसम में आई खबर 
न्यूयॉर्क टाइम्स की एक खबर में यह दावा किया गया है. खबर के अनुसार, अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने साल 2016 और 2017 में दोनों साल 750 डॉलर का टैक्स चुकाया था. अमेरिका में नवंबर महीने में राष्ट्रपति का चुनाव है जिसे देखते हुए इस खुलासे पर काफी राजनीति हो सकती है. 

गौरतलब है राष्ट्रपति ट्रंप अपने टैक्स संबंधी आंकड़ों को काफी सख्ती से छुपाकर रखते हैं. वह अमेरिका के पहले ऐसे राष्ट्रपति हैं जो इसे सार्वजनिक नहीं करता. खबर के अनुसार पिछले 15 साल में से 10 साल डोनाल्ड ट्रंप ने कोई टैक्स नहीं दिया है, जबकि वह रियल एस्टेट के एक दिग्गज और सफल कारोबारी रहे हैं. 

ट्रंप ने बताया फेक न्यूज 
राष्ट्रपति ट्रंप ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसे फर्जी खबर बताते हुए खारिज कर दिया है. उन्होंने कहा कि वह टैक्स देते हैं, हालांकि उन्होंने इसका विवरण देने से इंकार कर दिया है. अखबार का दावा है कि उसने ट्रंप के टैक्स रिटर्न के दस्तावेज हासिल किये हैं. 
साल 2016 में अमेरिका में पिछले राष्ट्रपति चुनाव के दौरान बहस के दौरान डेमाक्रेट उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन ने भी ट्रंप पर टैक्स चोरी का आरोप लगाते हुए कहा था कि ट्रंप इसी वजह से अपने आंकड़े जारी नहीं करते, क्योंकि उन्हें एक डॉलर का भी फेडरल टैक्स नहीं दिया है. इसका तत्काल जवाब देते हुए ट्रंप ने खुद को स्मार्ट बताया था. 


भारत में कितना टैक्स दिया 
खबर के अनुसार, ट्रंप की अमेरिकी कंपनियों में इन वर्षों में रेवेन्यू तो करोड़ों डॉलर का दिखाया गया है, लेकिन उन्हें लाखों डॉलर का घाटा दिखाया गया है. शायद इसी वजह से वह टैक्स देने से बच गये हैं. दूसरी तरफ साल 2017 में ट्रंप की कंपनियों ने भारत में 1.45 लाख डॉलर (करीब 1 करोड़ रुपये) और फिलीपींस में 1.56 लाख डॉलर का टैक्स दिया है.