मध्य प्रदेश शासन के मंत्री और अनूपपुर से भाजपा प्रत्याशी बिसाहूलाल सिंह की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। एक के बाद एक उनके वीडियो वायरल हो रहे हैं। अब तीसरे वीडियो में वे कार्यालय में अपने कार्यकर्ताओं को पार्टी फंड के लिए पैसा लाने के लिए बंदूक दिखाते हुए और धमकाते नजर आ रहे हैं। इतना ही नहीं, वे लोगों के हाथ पकड़कर उन्हें धक्का देते हुए बाहर निकाल रहे हैं। लोगों से गाली-गलौज भी कर रहे हैं।

गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने इस वीडियो को 8 साल पुराना बताया है। इस पर कांग्रेस ने तंज कसा है कि इतनी जल्दी इतने संस्कारवान कैसे हो गए? विचारधारा का असर तो है ही। अगर यह पुराना है तो भाजपा ने कार्रवाई क्यों नहीं की?

इससे पहले मंत्री सिंह का लोगों को नोट बांटते और अनूपपुर से कांग्रेस प्रत्याशी विश्वनाथ सिंह कुंजाम की पत्नी को रखैल कहने पर विवाद खड़ा हो चुका है।कांग्रेस ने कहा कि नरोत्तम मिश्रा मंत्री बिसाहूलाल सिंह के सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो की सत्यता की पुष्टि कर रहे हैं। यह तो स्पष्ट हो गया है कि यह वीडियो सच्चा है। अब विरोधाभास समय को लेकर है तो यह चुनाव आयोग की जांच में सामने आ जाएगा। यदि मिश्रा के अनुसार यह वीडियो 8 साल पुराना भी है तो कुछ भाजपा नेता इसे 4 साल पुराना भी बता रहे हैं। उस समय तो प्रदेश में भाजपा की सरकार थी। शिवराज मुख्यमंत्री थे तो क्या भाजपा की सरकार में इस तरह का कृत्य माफी योग्य था? क्या भाजपा की सरकार में कोई भी व्यक्ति खुलेआम हाथ में पिस्तौल लेकर किसी को धमका सकता है? क्या यही अपराध कोई आम नागरिक करता तो उसको भी इसी तरह माफ किया जा सकता है? आज ही उन पर तत्काल कानूनी कार्रवाई होना चाहिए। बिसाहूलाल ने कांग्रेस प्रत्याशी विश्वनाथ सिंह की पहली पत्नी का जिक्र न करते हुए रखैल का जिक्र किया था। बिसाहूलाल पहले कांग्रेस में ही थे। उन्होंने कांग्रेस में अपने करीबी रहे, जिला अध्यक्ष जयप्रकाश अग्रवाल को भी धमकी दी। कहा कि 3 तारीख को जयप्रकाश की दुर्गति कर दूंगा।