जिस दिन नाइट कर्फ्यू का फैसला लिया, उसी दिन से 300 से अधिक नए केस आने लगे; मौत भी डबल हो गईं
 

यह आंकड़े मध्यप्रदेश शासन द्वारा जारी आंकड़ों के आधार पर हैं। यह स्थिति नाइट कर्फ्यू के बाद की है।
21 नवंबर से भोपाल में रात 8 बजे से सुबह 6 बजे तक नाईट कर्फ्यू लगा है

राजधानी भोपाल में शासन द्वारा 21 नवंबर से रात 8 बजे से सुबह 6 बजे तक नाइट कर्फ्यू लगा है। सिर्फ छूट और जरूरी काम के लिए बाहर निकला जा सकता है, लेकिन केस घटना की जगह बढ़ गए हैं। जी हां जिस दिन भोपाल में नाइट कर्फ्यू लगाने का फैसला लिया उसी दिन से हर दिन 300 से अधिक केस सामने आ रहे हैं, जबकि उसके पहले यह आंकड़ा 240 से कम था। इतना ही नहीं नाइट कर्फ्यू लगने के बाद संक्रमितों की मौत का आंकड़ा भी लगभग दोगुना हो गया है। कर्फ्यू के पहले हर दिन औसतन एक मौत हो रही थी, जबकि कर्फ्यू के बाद यह संख्या औसतन 2 हो गई।

यह आंकड़े मध्यप्रदेश शासन द्वारा जारी आंकड़ों के आधार पर हैं। यह नाइट कर्फ्यू के पहले की स्थिति थी।

इस पर रिटायर्ड मेडिको लीगल डॉक्टर डीएस बड़कुल पहले ही कह चुके थे कि रात में कर्फ्यू लगाने से सिर्फ रात की पार्टियां रोकी जा सकती हैं, कोरोना नहीं। उन्होंने उसी दिन कहा था कि इसके पीछे कोई मेडिकल आधार नहीं है। यह सिर्फ एडमिनिस्ट्रेटिव फैसला है। संक्रमण रोकने के लिए सबसे ज्यादा सोशल डिस्टेंसिंग के साथ मास्क अनिवार्य होना चाहिए।

ध्यान रहे कि जितना संभव हो, लोगों के संपर्क में आने से बचें। बाजार बंद करने के लिए ऐसे समय का चयन करना चाहिए, जब सबसे ज्यादा भीड़ इकट्ठी होती है। यह भीड़ शाम 6 बजे से रात 8 के बीच होती है, क्योंकि इस दौरान लोग अपना काम खत्म कर ऑफिस आदि से बाजार में सामान लेने जाते हैं। इसी दौरान सबसे ज्यादा खतरा होता है।

व्यापारियों ने लिए थे ये चार निर्णय

बाजार के मुताबिक तय साप्ताहिक अवकाश के दिन दुकानें बंद रखी जाएंगी।
शासन व प्रशासन की गाइड लाइन का पालन किया जाएगा।
बाजार में मास्क लगाने, सैनेटाइजर के इस्तेमाल और सोशल डिस्टेंसिंग के प्रति ग्राहकों को जागरुक किया जाएगा, बैनर,
पोस्टर लगाए जाएंगे, अनाउंसमेंट भी कराया जाएगा।
अति आवश्यक सेवा जैसे दूध, दवा की दुकानें और किराना दुकानें खुली रहेंगी।
इन्हें छूट है

भोपाल में शराब दुकानें, खाने-पीने, रेस्टोरेंट और भोजनालय रात 10 बजे तक खुल रहे हैं। इसके अलावा अति आवश्यक चीजों के साथ ही मेडिकल, अस्पताल और औद्योगिक सेक्टर अपने निर्धारित समय से खुल और बंद हो रहे हैं।