भोपाल।घातक जानलेवा बीमारी रेबीज सिर्फ कुत्तों के काटने से ही नहीं एक इंसानों के काटने से भी हो सकता है। राज्य के स्वास्थ्य संचालक डा. सतीश कुमार एस ने सभी जिला मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों को भेजे अपने ताजा निर्देश में कहा है कि कुत्ते, चमगादड़, चूहे, रोडेन्ट, इंसान, जंगली जानवर आदि के काटे हुये मरीजों का उपचार राष्ट्रीय रेबीज नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत दी गई गाईडलाईन के अनुसार करें।