रीवा | विधानसभा अध्यक्ष श्री गिरीश गौतम ने लक्ष्मीबाग पैलेस में आयोजित अतिथि शिक्षक संघर्ष समिति सम्मान समारोह में कहा कि अतिथि शिक्षकों के पद से अतिथि शब्द हटे तथा अतिथि शिक्षकों का नियमितीकरण किया जाय इसके लिए वे हर संभव मदद करेंगे। उन्होंने कहा कि अतिथि शिक्षकों का नियमितीकरण होना चाहिए। इसके लिए वे सहमत हैं। उन्होंने कहा कि अतिथि शिक्षक संगठन नियमितीकरण के लिए एक होकर प्रयास करें तो उनकी मांगे पूरी होने की संभावना है। विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि अतिथि शिक्षक समिति यदि 79 विधायकों द्वारा विधानसभा में नियमितीकरण का प्रस्ताव रखवाती है तो वे उस प्रस्ताव को स्वीकार करेंगे।
    कार्यक्रम में विधानसभा अध्यक्ष श्री गिरीश गौतम को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया।
    अतिथि शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष शंभूचरण दुबे ने कहा कि अतिथि शिक्षक अपने नियमितीकरण के लिए पिछले 14 वर्षों से संघर्ष कर रहे हैं। अतिथि शिक्षक के रूप में सेवा करते हुए 14 वर्ष पूर्ण हो चुके हैं। उनकी उम्र दूसरी शासकीय सेवा या व्यापार करने की नहीं रही। ऐसी स्थिति में अतिथि शिक्षकों का नियमितीकरण किया जाना आवश्यक है। अतिथि शिक्षकों के पास शिक्षक के रूप में कार्य करने की पूरी योग्यता है। अतिथि शिक्षक पूरी ईमानदारी के साथ काम करते हुए अपने स्कूलों का परीक्षा परिणाम 90 से 100 प्रतिशत तक ला रहे हैं। ऐसी स्थिति में उनका नियमितीकरण करना परंम आवश्यक है।
    इस मौके पर मुनीन्द्र तिवारी, रविन्द्र अग्निहोत्री, वीरेन्द्र तिवारी, जयारानी नामदेव, मुन्नुलाल गुप्ता, नीतू सिंह, नीरज मिश्रा, अवधेश तिवारी, पुष्पेन्द्र गौतम सहित अतिथि शिक्षक उपस्थित थे।