इंदौर। हमारे प्रदेश में अब भीख मांगने को भी व्यवसाय की श्रेणी में माना जा रहा है। इसे बाकायदा राशन कार्ड में भी लिखा जा रहा है। शुक्रवार को खंडवा के पुनासा विकासखंड में नरलाय का रहने वाला 45 वर्षीय भीमसिंह एमवाय अस्पताल में इलाज के लिए पहुंचा तो उसका राशन कार्ड देखकर सभी दंग रह गए। दरअसल उसके राशन कार्ड पर व्यवसाय के स्थान पर भिखारी लिखा हुआ है। राशन कार्ड पर ग्राम पंचायत नरलाय की सील भी लगी है। भीमसिंह सहायता संस्था में दवाई लेने पहुंचा था। उसे पैर के इलाज के लिए खंडवा से एमवाय अस्पताल भेजा गया था। पूछने पर उसने बताया कि वह परिवार में अकेला है। राशन कार्ड से दुकान से राशन लेता है।