कांग्रेस सरकार बनने पर नियुक्तियों की जांच होगी और दोषी जेल जायेंगे: गुप्ता
भोपाल ।
 प्रदेश कांग्रेस पोल-खोल अभियान समिति के अध्यक्ष और मीडिया विभाग के उपाध्यक्ष भूपेद्र गुप्ता ने लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित सहायक प्राध्यापकों की भर्ती में व्यापक फर्जीवाडे़ का आरोप लगाते हुए सीबीआई जांच की मांग मुख्यमंत्री शिवराजसिंह से की है। उन्होंने जांच पूरी होने तक चयन सूची स्थगित रखे जाने की भी मांग की है।
भूपेन्द्र गुप्ता ने कहा है कि पीएससी ने लगभग साढ़े तीन हजार सहायक प्राध्यापकों की ताबड़तोड़ भर्तियां की हैं। इसमें नब्बे प्रतिशत लोग यूपी, दिल्ली, बिहार, हरियाणा आदि प्रदेशों के लोग चुने गये हैं। सामान्य ज्ञान का पेपर ही नहीं लिया गया, जिसमें 30 प्रतिशत प्रश्न मध्यप्रदेश के संबंध में रहते हैं। यह नहीं होने से इसका फायदा दूसरे प्रदेश के लोगों को मिला। मध्यप्रदेश के जो लोग चुने गये हैं, उसमें वरिष्ठ अधिकारियों की पत्नियां बच्चे और निकट के रिश्तेदार शामिल हैं। शिवराज सरकार में प्रदेश के बेरोजगार युवाओं के साथ एक बड़ा धोखा हुआ है। 
गुप्ता ने आरोप लगाया है कि भर्ती की पूरी प्रक्रिया शुरू से ही संदेह के घेरे में रही है। भर्ती का विज्ञापन निकलने के बाद उसमें बीस बार संशोधन किये गये। केवल परीक्षा के आधार पर चयन कर लिया गया। परीक्षा में पास हुए उम्मीदवारों का इन्टरव्यू ही नहीं लिया गया। इस कारण इन्टरव्यू के पहले होने वाली दस्तावेजों की जांच नहीं हो पाई और कई लोगों ने फर्जी सर्टिफिकेट के आधार पर नौकरी पा ली। रोस्टर का पालन भी नहीं किया गया। महिलाओं के दिये जाने वाले रिजर्वेशन का ध्यान नहीं रखा गया। विकलांग होने के गलत प्रमाण पत्र लगा दिये गये। इसके अलावा बिना नेट और स्लेट पात्रता परीक्षा पास और बिना पीएचडी किये अभ्यार्थियों ने भी चयन सूची में स्थान पा लिया है।
भूपेन्द्र गुप्ता ने कहा कि गोंडवाना स्टूडेंट यूनियन ने भी आरोप लगाया है कि अनुसूचित जनजाति की सीट पर फर्जी उम्मीदवार और गैर आदिवासियों की नियुक्ति की गयी है। आरक्षित वर्ग की सीट पर गलत तरीके से 24 लोगों को नियुक्त किया गया है। एससी की सीट पर ओबीसी की नियुक्ति हो गयी है। वहीं सामान्य वर्ग की महिलाओं के कम्पाउंड रिजर्वेशन को छीना जा रहा है, जबकि व्यापमं अपनी सभी भर्ती परीक्षाओं में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के तहत कम्पाउंड रिजर्वेशन का पालन कर रहा है, लेकिन लोक सेवा आयोग नहीं कर रहा है। 
श्री गुप्ता ने कहा कि इन सब फर्जीवाड़े के कारण हाईकोर्ट में कई याचिकाऐं लग गयी हैं और सरकार को नोटिस मिले हैं। एक बार फिर युवाओं को धोखा देकर ठगा गया है। इसमें एक बड़े षड्यंत्र की बू आ रही हैं। कांगे्रस की सरकार आने पर इन सभी नियुक्तियों की जांच करने और दोषियों को सजा देने की बात प्रदेश कांगे्रस अध्यक्ष कमलनाथ पहले ही कह चुके हैं।