नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर पहुंच चुके हैं। एक दिवसीय ओडिशा-छत्तीसढ़ दौरे पर पहुंचे पीएम वहां पर  कोयला परिवहन के लिए एमसीएल द्वारा निर्मित 53.1 किमी लंबी झारसुगुडा-सेरडेगा रेलवे लाइन, एनटीपीसी और महानदी कोलफील्ड लिमिटेड (एमसीएल) की खानें और हवाई अड्डा राष्ट्र को समर्पित करेंगे।

प्रधानमंत्री एमसीएल की गर्जनबहल ओपन कास्ट खान का उद्घाटन करेंगे। इस खान में 23 करोड़ टन का कोयला ब्लॉक भंडार है और इसकी वार्षिक उत्पादन क्षमता खान 1.3 करोड़ टन होगी। 
2022 तक संयंत्र चालू होगा : 
अधिकारियों ने बताया कि इससे 894 लोगों को सीधे तौर पर रोजगार मिलेगा, जबकि 5000 लोगों के लिए अप्रत्यक्ष नौकरी के अवसर पैदा होंगे। प्रधानमंत्री अंगुल जिले के तालचर में देश के पहले कोयला गैस आधारित उर्वरक संयंत्र के लिए काम की शुरुआत करेंगे। इस संयंत्र को 2022 तक चालू करने का लक्ष्य रखा गया है। 
 

सभा को संबोधित करेंगे :- 
इसके बाद वह छत्तीसगढ़ में जांजगीर-चम्पा जिले के दौरे पर जाएंगे, जहां वह परंपरागत हैंडलूम और कृषि प्रदर्शनी में जाएंगे। वह राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाओं और पेंडरा-अनूपपुर तीसरी रेल लाइन की आधारशिला रखेंगे। वहां वह सभा को संबोधित करेंगे।