भोपाल
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने शुक्रवार को आरोप लगाया कि केंद्र में बीजेपी नीत सरकार ने ‘शासन का गुजरात मॉडल’ लागू किया है, जिसका मकसद निर्दोष लोगों को फंसाना और फर्जी मामले दर्ज करना है। दिग्विजय ने यह बातें पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम की गिरफ्तारी के संदर्भ में कहीं।

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस नेता दिग्विजय ने पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की कार्रवाई पर सवाल के जवाब में कहा कि केन्द्र की यह सरकार दुश्मनी को बढ़ावा दे रही है। उन्होंने कहा, ‘यह लोग आज सत्ता में, शासन का गुजरात मॉडल लागू कर रहे हैं। निर्दोष लोगों को फंसा रहे हैं, झूठे मामले दर्ज कर रहे हैं, जैसा कि इन्होंने गुजरात में किया था।’ हालांकि, दिग्विजय ने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के भांजे रतुल पुरी के खिलाफ ईडी के मामले के बारे में अनभिज्ञता जाहिर की।

चिदंबरम के खिलाफ ईडी की कार्रवाई के बारे में पूछे जाने पर दिग्विजय ने कहा, 'मैं इसकी निंदा करता हूं। उन्हें झूठा फंसाया गया है। किसी भी मामले में उनके खिलाफ कोई साक्ष्य नहीं है। मैं 1984-85 से उन्हें जानता हूं, वह ईमानदार हैं और कभी भी नियम और कानून के खिलाफ काम नहीं करते हैं।’ गौरतलब है कि आईएनएक्स मीडिया मामले में पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम को 14 दिनों के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। कोर्ट के आदेश के बाद चिदंबरम को तिहाड़ सेन्ट्रल जेल भेजा जाएगा।

दिग्विजय ने प्रदेश में 15 साल रही बीजेपी सरकार की ओर इशारा करते हुए यह भी कहा, ' बीजेपी ने मुझे 15 साल तक फंसाने की कोशिश की लेकिन कोई मामला ही नहीं था। ईडी, आयकर, सीबीआई और मेरे खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में भी कुछ नहीं है। यदि उनके पास मेरे खिलाफ सबूत होते, तो क्या मैं खुले तौर पर उनका विरोध कर पाता।’

मध्य प्रदेश में कांग्रेस सरकार के अपने आप गिर जाने वाले बीजेपी के कई नेताओं के बयान पर दिग्विजय ने कहा कि बीजेपी के नेता विपक्ष में होने को पचा नहीं पा रहे हैं। उन्हें सत्ता भोगने की आदत हो गई है इसलिए वे प्रदेश में सत्ता खोने के बाद से परेशान हैं।