कभी मैं खाऊं समोसा...कभी खाऊं बर्गर... सभी मुझे एक लगे है जिधर भी मैं जाऊं. मैं जीता हूं सारे जितने हैं कैरेक्टर. कभी तो मैं हूं ब्रैड पिट और कभी बच्चन सा एक्टर. चलने दे मस्ती का तूफान...खुलके होगा डांस. जी हां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वागत में अमेरिका के ह्यूस्टन के एनआरजी स्टेडियम में आयोजित कार्यक्रम में युवा इस गीत पर थिरकते नजर आए.

असल में, प्रधानमंत्री मोदी के स्वागत में रविवार को अमेरिका के ह्यूस्टन के एनआरजी स्टेडियम में हजारों की तादाद में भारतीय प्रवासी पहुंचे. प्रधानमंत्री 'हाउडी मोदी' कार्यक्रम में प्रवासी भारतीयों को संबोधित करेंगे. एनआरजी स्टेडियम में जश्न का माहौल बना हुआ है.

भारत के विभिन्न भागों से आने वाले भारतीय प्रवासी समुदाय में शामिल महिलाएं और पुरुष रंग-बिरंगे परंपरागत परिधानों में पहुंचे हुए हैं, जिससे स्टेडियम में उत्सव का नजारा दिख रहा है. पीएम मोदी के संबोधन से पहले स्टेडियम में सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें एक डांस देखने को मिला जिसमें कभी मैं खाऊं समोसा...कभी खाऊं बर्गर की थीम युवाओं ने डांस किया.

कभी मैं खाऊं समोसा...कभी खाऊं बर्गर... सभी मुझे एक लगे है जिधर भी मैं जाऊं. मैं जीता हूं सारे जितने हैं कैरेक्टर. कभी तो मैं हूं ब्रैड पिट और कभी बच्चन सा एक्टर. चलने दे मस्ती का तूफान...खुलके होगा डांस. इस गाने पर युवाओं ने डांस किया.

बहरहाल, कार्यक्रम में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप मोदी के साथ मंच साझा कर रहे हैं. कार्यक्रम स्थल पर ढोल बज रहे हैं और लोग मोदी मोदी के नारे लगा रहे हैं. 'हाउडी मोदी' कार्यक्रम में करीब 50,000 प्रवासी भारतीय हिस्सा ले रहे हैं. कार्यक्रम के लिए टिकटों की बिक्री कई सप्ताह पहले ही हो चुकी थी.
एनआरजी फुटबॉल स्टेडियम में हो रहे यह कार्यक्रम का आयोजन टेक्सास इंडिया फोरम (टीआईएफ) ने किया है, जोकि एक नॉन-प्रॉफिट आर्गेनाइजेशन है. कार्यक्रम के पहले टीआईएफ ने एक ट्वीट के जरिए कहा, "स्टेडियम में लोगों का जोश देखने वाला है जो भारी तादाद में उमड़े हैं और प्रधानमंत्री मोदी के संबोधन की प्रतीक्षा कर रहे हैं."

जोश में भारतवंशी

कार्यक्रम की थीम 'शेयर्ड ड्रीम ब्राइट फ्यूचर्स' है. संगठन ने कहा कि भारतवंशी अमेरिकी समुदाय पूरे जोश के साथ कार्यक्रम में आए हैं और इस ऐतिहासिक कार्यक्रम का हिस्सा बनने के लिए पूरे से से यहां पहुंचे हैं. कार्यक्रम के आयोजक और वॉयस ऑफ स्पेशिएली एब्लड पीपल के संस्थापक प्रणव देसाई ने बताया कि कार्यक्रम के लिए हजारों कार्यकर्ता अपने काम में जुटे हैं.