अयोध्या,राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई पूरी होने में अब कुछ ही दिन का वक्त बचा है। ऐसे में उत्तर प्रदेश की राजनीति में भी सरगर्मी तेज होती जा रही है। यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के 'जल्द ही खुशखबरी' आने के कथित बयान के बाद पहले समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव और अब बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मायावती ने भी इस मुद्दे पर टिप्पणी की है। मायावती ने कहा है कि कोर्ट का जो भी फैसला हो, सबको उसका सम्मान करना चाहिए।

फैसले का हो सम्मान
बीएसपी अध्यक्ष मायावती ने सोमवार को ट्वीट किया- 'माननीय सुप्रीम कोर्ट की विशेष पीठ का बाबरी मस्जिद- रामजन्म भूमि प्रकरण पर दिन-प्रतिदिन की सुनवाई के बाद आगे जो भी फैसला आए उसका सभी को अवश्य ही सम्मान करना चाहिए और देश में हर जगह साम्प्रदायिक सौहार्द का वातावरण कायम रखना चाहिए। यही व्यापक जनहित व देशहित में सर्वोत्तम होगा।'

सीएम के बयान पर अखिलेश का सवाल
गौरतलब है कि ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ की स्मृति में गोरखपुर में आयोजित मोरारी बापू की रामकथा के दौरान सीएम योगी ने राम मंदिर का नाम लिए बिना इशारों-इशारों में कहा कि बहुत जल्द ही बड़ी खुशखबरी मिलने वाली है। इस पर पूर्व सीएम अखिलेश ने सवाल किया था कि आखिर उन्हें कैसे पता है कि क्या होने वाला है?