भोपाल । करवा चौथ का व्रत आगामी 17 अक्टूबर को रखा जाएगा। पति-पत्नी के बीच प्रेम का प्रतीक पर्व करवा चौथ पर घर-घर में पति की देव के रूप में पूजा होगी। सुबह से ही महिलाएं निराहार व्रत रखेंगी। शाम को व्रतीधारी महिलाएं सुहाग की रक्षा के लिए चांद की रोशनी के बीच पति की आरती, तिलक और चंद्रमा के दर्शन करते हुए अर्घ्य समर्पित कर व्रत परायण करेंगी। इस दिन कई स्थानों पर सामूहिक पूजा के आयोजन भी होंगे। राजधानी के ज्योतिषाचार्य के मुताबिक, कृष्ण पक्ष की गणेश चतुर्थी पर 17 अक्टूबर को यमघट योग में करवा चौथ व्रत मनेगा। चंद्र दर्शन रात 8.58 बजे करने के साथ ही व्रत परायण होगा। सुहागिन महिलाएं पति की दीर्घायु के लिए करवा चौथ का व्रत और इसकी रस्में पूरी निष्ठा से करती हैं। इससे परिवार में सुख-शांति, समृद्धि, मान-सम्मान, लक्ष्मी की वृद्धि, दीर्घायु जीवन की प्राप्ति होती है। इस दिन सुहागिन महिलाएं भगवान शिव, माता पार्वती और कार्तिकेय के साथ गणेश जी की पूजा के बाद कथा सुनने का विधान है। 
     करवा चौथ के पूजन के लिए करवा, सीकें-6, रोली, सिंदूर, हल्दी, चावल, पुष्प, मिष्ठान, कपूर, अगरबत्ती, शुद्ध घी का दीपक, कलावा, दूर्वा, शुद्ध जल से भरा कलश, घर में बने पकवान आदि की जरुरत होती है, इन्हीं सामग्री से पूजा की जाती है। पूजा के बाद सुहागिन महिलाएं छलनी से चंद्रमा दर्शन के साथ पति के दर्शन करती हैं। पति के हाथों से ही जल और फल ग्रहण होते ही व्रत का परायण होगा।कोटरा स्थित सरस्वती शिशु विद्या मंदिर में सहज समाधान शिक्षा एवं समाज समिति द्वारा सामूहिक करवा चौथ व्रत महोत्सव का आयोजन होगा। इसमें एक साथ 100 जोड़े पूजा करेंगे। संस्था की अध्यक्ष मीरा गुप्ता व सचिव कमल गर्ग ने बताया कि सामाजिक समरसता व सद्भाव को बढ़ावा देने की दिशा में किया जा रहा आयोजन का तीसरा वर्ष है। इस वर्ष करवा चौथ का भव्य आयोजन होगा। इसमें सभी जाति, धर्म के जोड़े शामिल होंगे। पंजीयन के लिए मो. 9425128834 पर संपर्क कर सकते हैं।