मुम्बई । कोरोना वायरस महामारी के बाद जब फिर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की वापसी होगी तब टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली के पास महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर के कुछ रिकार्ड अपने नाम दर्ज करने का अवसर रहेगा। तेंदुलकर के नाम पर एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 49 शतकों का रिकार्ड है, वहीं विराट के नाम पर 43 शतक हैं और ऐसे में विराट अगले साल तक इस रिकार्ड को अपने नाम पर कर सकते हैं। विराट को सचिन के इस रिकार्ड की बराबरी के लिए छह शतकों की ही जरुरत है। वहीं भारतीय धरती पर शतक लगाने के रिकार्ड की बात करें तो विराट को सचिन के रिकार्ड की बराबरी करने के लिये केवल एक शतक की जरुरत है। सचिन के नाम घरेलू धरती पर 20 जबकि विराट के नाम 19 शतक हैं।
इसके अलावा खेलों की वापसी पर वह महान बल्लेबाज के सबसे कम पारियों में 12,000 रन पूरा करने के रिकार्ड तक भी पहुंच सकते हैं। सचिन ने 300 पारियों में जबकि ऑस्ट्रेलिया के रिकी पोंटिंग ने 314 पारियों में यह उपलब्धि हासिल की थी। वहीं विराट ने अभी तक 248 मैचों की 239 पारियों में 11,837 रन बनाये हैं और वह 12,000 के आंकड़े से केवल 133 रन ही पीछे हैं। इसके अलावा एकदिवसीय में सबसे कम पारियों में 8,000, 9,000, 10,000 और 11,000 रन बनाने का रिकार्ड भी भारतीय कप्तान के नाम पर है। भारतीय टीम अगर चार टेस्ट मैचों की श्रृंखला के लिये इस साल के अंत में आस्ट्रेलियाई दौरे पर जाती है तो फिर कोहली कंगारुओं के देश में टेस्ट क्रिकेट में सर्वाधिक रन और सर्वाधिक शतक बनाने वाले भारतीय बल्लेबाज बन सकते हैं। सचिन के नाम अभी आस्ट्रेलियाई धरती पर टेस्ट में छह, वहीं विराट के नाम भी इतने ही शतक हैं। सचिन के नाम पर 20 मैचों की 38 पारियों में 1809 रन दर्ज हैं जबकि कोहली ने 12 टेस्ट की 23 पारियों में 1274 रन बनाये हैं। इस प्रकार कोहली को सचिन से आगे निकलने के लिए 535 रनों की जरुरत है।