एक्सरसाइज के जरिये वजन घटाने की कोशिशों में जुटे लोगों के लिए ग्रीन-टी जादू की छड़ी साबित हो सकती है। ब्रिटेन स्थित इंपीरियल कॉलेज के शोधकर्ताओं ने अपने हालिया अध्ययन के आधार पर यह दावा किया है। उन्होंने पाया कि ग्रीन टी में मौजूद ‘कैटेचिन’ फैट कोशिकाओं को तोड़ने वाले हार्मोन के उत्पादन को बढ़ावा देते हैं। इससे फैट खून में घुलकर ऊर्जा के तौर पर इस्तेमाल के लिए उपलब्ध हो जाता है।

शोधकर्ता पीटर हिक्स के मुताबिक ‘कैटेचिन’ चयापचय क्रिया को भी बढ़ावा देती है। यही वजह है कि अध्ययन में शामिल जिन लोगों ने एक्सरसाइज से पहले जिन प्रतिभागियों ने ग्रीन टी का सेवन किया, उनके शरीर में 17 फीसदी अधिक फैट जला। हिक्स ने यह भी कहा कि ग्रीन-टी को एकदम खौलते पानी में नहीं डालना चाहिए। इससे उसमें मौजूद ‘कैटेचिन’ नष्ट हो सकते हैं। पानी में उबाल आने के बाद उसे पांच मिनट ठंडा होने के बाद ही टी-बैग डालना फायदेमंद है। उन्होंने दिनभर में दो से तीन कप से ज्यादा ग्रीन टी न पीने की चेतावनी भी दी।