नई दिल्ली । गंध और स्वाद में कमी महसूस होने जैसे कोरोना संक्रमण के लक्षण मरीज में एक समय के बाद गायब हो जाते हैं। ब्रिटेन के वैज्ञानिकों ने 202 संक्रमित रोगियों के सर्वे के आधार पर यह निष्कर्ष दिया है। वैज्ञानिकों का कहना है कि ऐसे लक्षण अधिकतम चार सप्ताह तक ही रहते हैं। गौरतलब है कि गंध और स्वाद महसूस न होने के लक्षणों को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने बाद में कोरोना के मुख्य लक्षणों के रूप में शामिल किया था। ब्रिटेन के गाइज एंड सेंट थॉमस अस्पतालों के अनुसंधानकर्ताओं ने 56 साल औसत उम्र वाले 202 रोगियों पर अध्ययन किया, जिसमें 103 महिलाएं थीं। वैज्ञानिकों ने देखा कि सूंघ नहीं पाने और स्वाद नहीं ले पाने के लक्षण दिखने के चार सप्ताह बाद 55 रोगियों ने ये लक्षण पूरी तरह समाप्त होने की बात कही। 
वैज्ञानिकों ने पाया कि 202 रोगियों में से 46 में एक महीने के अंदर सुधार दिखाई दिया और केवल 12 में लक्षण बने रहे या बिगड़ गए। अनुसंधानकर्ताओं ने कहा कि अधिकतर मामलों में समय के साथ स्वाद या गंध महसूस नहीं कर पाने के लक्षणों में सुधार होता है।यह अध्ययन जामा ओटोलैरिंगोलॉजी-हैड एंड नेक सर्जरी नामक विज्ञान पत्रिका में प्रकाशित हुआ। वैज्ञानिकों ने कहा कि लंबे समय तक गंध या स्वाद महसूस नहीं कर पाने का सार्स-सीओवी2 के संक्रमण से संबंध नहीं है। कोविड-19 में सूंघने या स्वाद संबंधी समस्या नाक में अवरोध से जुड़ी हो सकती है या इसका नाक में सूंघने का काम करने वाली झिल्ली (ओलफैक्ट्री म्यूकोसा) और इससे जुड़ी एक तंत्रिका कोशिका पर सीधा असर हो सकता है जिसकी वजह से लक्षण होते हैं।