चीनी ऐप TikTok भारत में बैन हो चुका है और अमेरिका में भी बैन होने की कगार पर है. अमेरिकी प्रेसिडेंट ट्रंप ने कहा है कि इस ऐप पर बैन लगाया जाएगा.

बड़ी ख़बर ये है कि माइक्रोसॉफ़्ट इस ऐप को ख़रीद सकता है. कंपनी ने एक स्टेटमेंट जारी किया है जिसमें कहा गया है कि अमेरिकी प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रंप ने इस बारे में माइक्रोसॉफ़्ट के सीईओ सत्य नडेला से बातचीत की है.

माइक्रोसॉफ्ट ने जारी किया स्टेटमेंट..

इस स्टेटमेंट में माइक्रोसॉफ़्ट ने ये भी कहा है कि कंपनी माइनॉरिटी बेसिस पर अमेरिकी निवेशकों को इसमें हिस्सा लेने के लिए इन्वाइट कर सकती है. इससे पहले भी ये बात चल रही थी कि अमेरिका में टिक टॉक बिक सकता है.

माइक्रोसॉफ़्ट द्वारा जारी किए गए एक स्टेटमेंट में कहा गया है, ‘माइक्रोसॉफ़्ट के सीईओ सत्य नडेला और प्रेसिडेंट डोनल्ड ट्रंप के बीच हुई बातचीत के बाद माइक्रोसॉफ़्ट अमेरिका में टिक टॉक को ख़रीदने के लिए बातचीत करने को तैयार है’

माइक्रोसॉफ़्ट के इस स्टेटमेंट में ये भी कहा गया है कि कंपनी अमेरिका के हित के लिए ही टिक टॉक ख़रीदने के बारे में सोच रही है. चूंकि प्रेसिडेंट ट्रंप इस ऐप की सिक्योरिटी को लेकर चिंतित हैं इसलिए अमेरिकी हितों के लिए कंपनी अमेरिका में टिक टॉक का अधिग्रहण कर सकती है.

15 सितंबर तक हो जाएगा तय..

माइक्रोसॉफ़्ट ने ये भी साफ़ कर दिया है कि टिक टॉक की पेरेंट कंपनी बाइटडांस के साथ अधिग्रहण के लिए की जाने वाली बातचीत 15 सितंबर तक पूरी कर ली जाएगी.

ग़ौरतलब है कि अगर माइक्रोसॉफ़्ट टिक टॉक को ख़रीदती है तो ये ऐसा नहीं होगा कि टिक टॉक पूरी तरह माइक्रोसॉफ़्ट का हो जाएगा. बल्कि अमेरिका, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैंड में यूज किया जाने वाला टिक टॉक ऐप माइक्रोसॉफ़्ट का हो जाएगा.

फ़िलहाल अमेरिका में टिक टॉक की डेटा पॉलिसी और चीन के साथ अमेरिका के तल्ख़ रिश्तों की वजह से ये ऐप वहां कभी भी बैन किया जा सकता है.

सेफ्टी और ट्रांसपेरेंसी बड़ा मुद्दा, ऐल्गोरिद्म पब्लिक करने को तैयार टिक टॉक

टिक टॉक अमेरिका में भी काफ़ी पॉपुलर हो चुका है, ऐसे में इस ऐप को माइक्रोसॉफ़्ट ख़रीद कर कम से कम डेटा सेफ़ और सिक्योर रखने की बात तो कर ही सकती है.

बहरहाल टिक टॉक ने भी एक बड़ा कदम उठाते हुए डेटा और ऐप ट्रांसपेरेंसी के लिए ऐप का ऐल्गोरिद्म जारी करने का भी ऐलान कर दिया है.

इतना ही नहीं टिक टॉक ने फ़ेसबुक पर इल्ज़ाम भी लगाया है कि इंस्टाग्राम का रील्स फ़ीचर टिक टॉक की कॉपी है और ऐल्गोरिद्म जारी करके कंपनी दुनिया को ये दिखाएगी कि कैसे फ़ेसबुक ने इंस्टाग्राम के लिए टिक टॉक का कॉपी कर लिया है.