बिलासपुर । सिम्स मेडिकल कालेज एवं अस्पताल मे व्याप्त समस्याए, अव्यवस्थाओ, चिकित्सको एवं चिकित्सा शिक्षको की कमी की वजह से अस्पताल मे इलाज हेतु आये मरीजो एवं मेडिकल कालेज मे अध्ययनरत छात्र छात्राओ को होने वाली असुविधाओ के निराकरण हेतु माननीय उच्च न्यायलय के समक्ष अधिवक्ता विकाश श्रीवास्तव द्वारा स्वयं याचिकाकर्ता के रूप मे उपस्थित होकर एक जनहित याचिका प्रस्तुत की गयी थी, जिसकी प्रारंभिक सुनवाई करते हुए माननीय उच्च न्यायलय द्वारा शासन एवं सिम्स मेडिकल कालेज और अस्पताल को सूचना प्रेषित कर 4 सप्ताह के भीतर जवाब प्रस्तुत करने हेतु आदेशित किया गया है,
मामले की पैरवी अधिवक्ता अखंड पांडे एवं आकाश श्रीवास्तव के माध्यम से की जा रही है, प्राप्त जानकारी के अनुसार सिम्स के अधिकतर विभागो मे चिकित्सा शिक्षको की कमी है एवं कई विभाग मे तो एक भी चिकित्सक/ चिकित्सा शिक्षक नही है, इस सम्बंध मे समय समय पर समाचार पत्र एवं पोर्टल के माध्यम से खबर प्रकाशित होती रहती है जिसके बावजूद समस्याएऐं जस की तस बनी हुई है जिससे गरीब मजदूर वर्ग के लोगो को इलाज मे कई प्रकार की कठिनाईयो का सामना करना पडता है। इस कोरोना महामारी में और भी अनेक प्रकार की समस्यायों का अंबार लगा हुआ है। इस सभी मामलों को लेकर माननीय उच्च न्यायालय में एक जनहित याचिका दाखिल किया गया है