कोरोना वायरस  लोगों की जान लेने के अलावा प्राचीन विरासत को भी प्रभावित करने लगा है. कोरोना के चलते सभी पर्व-त्‍योहारों का रंग फीका पड़ने लगा है. होली, ईद, बकरीद आदि त्‍योहारों का रंग तो फीका हुआ ही, अब दशहरा दीवाली जैसे बड़े त्‍योहारों पर भी इसका असर पड़ने जा रहा है. गुजरात की बात करें तो सरकार ने वहां नवरात्रि महोत्‍सव  के सार्वजनिक आयोजनों पर रोक लगा दी है. बता दें कि नवरात्रि  गुजरात में धूमधाम से मनाई जाती है युवाओं को इस त्‍योहार का बेसब्री से इंतजार रहता है.

गुजरात सरकार ने तय किया है कि राज्य में इस साल 17 अक्टूबर से 25 अक्टूबर तक पड़ने वाले शारदीय नवरात्र में नवरात्रि महोत्सव का सार्वजनिक आयोजन नहीं किया जाएगा. दरअसल, कोरोना महामारी  के चलते मेडिकल एसोसिएशन ने सरकार को पत्र लिखकर राज्‍य में नवरात्रि का आयोजन नहीं कराने की अपील की थी. डॉक्‍टरों ने आशंका जताई थी कि नवरात्रि का आयोजन होने से राज्य में कोरोना विस्फोट हो सकता है.

गुजरात सरकार की तरफ से जारी किए गए गाइडलाइंस में कहा गया है कि इस साल राज्य में नवरात्रि का आयोजन नहीं किया जाएगा. सरकार के इस फैसले के बाद बड़े गरबा आयोजकों ने भी गरबा का आयोजन करने से इनकार कर दिया है. लोग अपने घरों में या छोटी सोसाइटियों में दुर्गा पूजा का आयोजन किया जा सकेगा. हालांकि इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का ध्‍यान रखना जरूरी होगा.