बीजिंग । कोरोना वैक्सीन के उत्पादन और निर्यात को लेकर चीन अन्य देशों से काफी आगे निकल गया है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, कोरोना वैक्सीन की करोड़ों खुराक निर्यात करने के लिए चीन की तैयारी पूरी हो चुकी है। अब निर्यात करने के लिए चीन को वैक्सीन रेग्यूलेटर से मंजूरी मिलने की जरूरत है। विदेशों में वैक्सीन की करोड़ों खुराक निर्यात करने के लिए चीन ने अपने अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर खास व्यवस्था की है, जहां कम तापमान में वैक्सीन को स्टोर किया जाएगा। 
रिपोर्ट के मुताबिक, कुछ ही महीने में चीन कई देशों को वैक्सीन की सप्लाई शुरू कर देगा। चीन की 4 कंपनियों की ओर से तैयार की गईं पांच कोरोना वैक्सीन के फेज-3 ट्रायल चल रहे हैं। कुल 16 देशों में चीनी वैक्सीन के ट्रायल हो रहे हैं। सबसे पहले चीन उन्हीं देशों को वैक्सीन निर्यात करेगा, जहां उसकी वैक्सीन के ट्रायल हो रहे हैं। हालांकि, चीन ने अन्य देशों को भी वैक्सीन सप्लाई करने का वादा किया है, जिनमें कई विकासशील देश शामिल हैं। 
चीनी कंपनी सिनोवैक बायोटेक ने ब्राजील को 4 करोड़ 60 लाख और तुर्की को 5 करोड़ वैक्सीन की खुराक सप्लाई करने के लिए डील की है। कैनसिनो बायोलॉजिक्स ने मैक्सिको को 3 करोड़ 50 लाख खुराक देने के लिए करार किया है। वहीं, सिनोफार्म कंपनी ने पिछले महीने कहा था कि दर्जनों देशों ने उसकी वैक्सीन खरीदने की इच्छा जताई है। कंपनी ने कहा कि 2021 में वह वैक्सीन की एक अरब खुराक का उत्पादन कर सकती है। चीनी कंपनी सिनोवैक बायोटेक ने ब्राजील को 4 करोड़ 60 लाख और तुर्की को 5 करोड़ वैक्सीन की खुराक सप्लाई करने के लिए डील की है। कैनसिनो बायोलॉजिक्स ने मैक्सिको को 3 करोड़ 50 लाख खुराक देने के लिए करार किया है। वहीं, सिनोफार्म कंपनी ने पिछले महीने कहा था कि दर्जनों देशों ने उसकी वैक्सीन खरीदने की इच्छा जताई है। कंपनी ने कहा कि 2021 में वह वैक्सीन की एक अरब खुराक का उत्पादन कर सकती है।