हिंदू पंचांग में ज्योतिष शास्त्र का विशेष महत्व होता हैं। जिसके अनुरूप अपने राशि रहता हैं। उससे भी बड़ा सवाल उसमें परिवर्तन शनि ग्रह का राशि परिवर्तन सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है। न्याय के देवता शनि जब भी राशि परिवर्तन करते हैं तो किसी-न-किसी राशि पर साढ़े साती या फिर ढैय्या शुरू हो जाती है। बता दें कि शनि ग्रह सभी ग्रहों में सबसे धीमी और वक्री चाल से चलते हैं। इसलिए शनि ग्रह एक राशि से दूसरी राशि में जाने के लिए ढाई वर्ष तक का समय लेते हैं। शनि फिलहाल मकर राशि में विराजमान हैं, जिसके कारण धनु, मकर और कुंभ जातकों पर शनि साढ़े साती चल रही है तो वहीं मिथुन और तुला पर ढैय्या चल रही है।

ज्योतिषाचार्यों के अनुसार जिन लोगों की कुंडली में शनि की स्थिति मजबूत होती है, उन्हें साढ़े साती हो या फिर ढैय्या दोनों ही स्थितियों में शुभ फलों की प्राप्ति होती है। लेकिन जिन जातकों की राशि में शनि कमजोर स्थिति में है, उन्हें शारिरिक, मानसिक, पारिवारिक और आर्थिक कष्टों का सामना करना पड़ता है। साल 2022 में शनि ग्रह 29 अप्रैल को गोचर करेंगे, जिसके कारण तीन राशियां सबसे अधिक प्रभावित होंगी।शनिदेव व्यक्ति को उसके कर्मों के अनुसार फल देते हैं।

इस पितृ पक्ष, 15 दिवसीय शक्ति समय में गया में अर्पित करें नित्य तर्पण, पितरों के आशीर्वाद से बदलेगी किस्मत : 20 सितम्बर - 6 अक्टूबर 2021

 
इन राशिफल पर ज्यादा प्रभाव रहेंगा

2022 में शनि के गोचर से सबसे ज्यादा मीन, कर्क और वृश्चिक राशि प्रभावित होंगी। ऐसे में इस राशि के जातकों को अधिक सावधानी बरतने की जरूरत है।

शानि साढ़े के दौरान यह समास्या हों सकता हैं।

- शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या की वजह से व्यक्ति का जीवन बुरी तरह प्रभावित हो जाता है।

- धन- हानि हो सकती है।

- इस समय सोच- समझकर ही खर्च करें।

- स्वास्थ्य संबंधित समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

- इस समय अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखने की आवश्यकता है।

- कार्यों में विघ्न आ सकते हैं।

शानि साढ़े साथी के प्रभाव को कम करने के लिए यह करें ।

- शानि साढ़े साथी का प्रभाव कम करने के लिए हनुमान चालीसा का पाठ करें

हनुमान जी की पूजा- अर्चना करने से शनि का अशुभ प्रभाव नहीं पड़ता है। हनुमान जी की कृपा प्राप्त करने के लिए रोजाना हनुमान चालीसा का पाठ करें।

इस पितृ पक्ष गया में कराएं श्राद्ध पूजा, मिलेगी पितृ दोषों से मुक्ति : 20 सितम्बर - 6 अक्टूबर 2021
 
यह राशि पर कम प्रभाव रहेगा ।

1 . वृष राशि :- इस राशि के लोगों के लिए शनि शुभ अवस्था में हैं. ऐसे में वृषभ राशि के लोगों को नौकरी में प्रमोशन मिल सकता है. कहीं से फंसा हुआ धन प्राप्त होने से आर्थिक स्थिति में मजबूती आ सकती है. रुके हुए काम बनने के आसार हैं और मान सम्मान में वृद्धि होने के संकेत हैं.

2. कर्क राशि : - शनिदेव की व्रकी चाल से आपके लिए भी शुभ है. इस बीच कोई अच्छा समाचार सुनने को मिल सकता है. कोर्ट-कचहरी का कोई मामला अगर अटका हुआ है तो इस बीच उसका फैसला आपके पक्ष में आ सकता है. परिवार में सदस्यों के बीच प्यार बढ़ेगा. नौकरी और व्यापार में अक्तूबर तक आपको शुभ फल मिलने के संकेत हैं. इसलिए मेहनत में कसर न छोड़ें.

3. सिंह राशि :- शनि का वक्री होना सिंह राशि के लिए वरदान है. 11 अक्टूबर तक का समय आपके लिए पूरी तरह अनुकूल हैं. इस दौरान जो भी काम करेंगे, सफलता प्राप्त होगी. धन लाभ होगा और ऐसे लोगों से मुलाकात होगी जो आपके लिए फायेदमंद साबित होंगे. इस समय का पूरा लाभ उठाएं.

4. कन्या राशि : - आप जिन कामों के लिए अब तक परेशान हो रहे थे, जल्द ही वो काम बनने की उम्मीद है. 11 अक्टूबर तक का समय आपके लिए बहुत बेहतरीन रहने वाला है. ऐसे में अपने महत्वपूर्ण कार्यों को प्राथमिकता के साथ निपटाएं ताकि आपको अपनी मेहनत के अनुरूप पूरा फल मिल सके. रूके हुए काम पूरे होने के संकेत हैं, जिससे आपको काफी मुनाफा मिल सकता है.