कार्तिक मास की अमावस्या तिथि के दिन दीपावली का पर्व मानाया जाता है। इस दिन भगवान गणेश और माता लक्ष्मी का पूजन करने का विधान है। इस साल दीपावली का त्योहार 04 नवंबर, दिन गुरूवार को मनाया जाएगा। मान्यता है कि दीपावली के दिन गणेश-लक्ष्मी का पूजन नई मूर्ति से किया जाता है। धनतेरस का दिन मूर्ति खरीदने के लिए सबसे शुभ माना जाता है।लेकिन भगवान गणेश और माता लक्ष्मी की मूर्ति खरीदते समय हमें कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए। ऐसा करने से हमारा पूजन सफल होता है और सभी मनोकामनाओं की पूर्ति होती है। आइए जानते हैं कि इस धनतेरस पर हम गणेश-लक्ष्मी की कैसी मूर्ति घर लाएं....

1-धनतेरस के दिन भगवान गणेश और लक्ष्मी की मूर्ति खरीदते समय ध्यान दें कि दोनों की अलग-अलग मूर्ति खरीदें कि संयुक्त मूर्ति।

2-ध्यान रखें कि दीपावली के दिन गणेशलक्ष्मी बैठी हुई मुद्रा की ही मूर्ति का पूजन करना चाहिए। खड़ी हुई मुद्रा की मूर्तियां उग्र स्वभाव की विनाशक मानी जाती हैं।

3- मूर्ति खरीदते समय ध्यान रखें कि मूर्ति कहीं से खंड़ित या टूटी हुई हो, ऐसी मूर्ति का पूजन करना अशुभ माना जाता है।

4- गणेश जी की प्रतिमा खरीदते समय ध्यान दे कि उनकी सूंड बाईं तरफ मुड़ी हुई हो और उनका वाहन चूहा मूर्ति में जरूर बना हुआ हो।

5- हाथ में मोदक लिए हुए गणेश जी की मूर्ति का पूजन सुख और समृद्धिदायक माना जाता है।

6- लक्ष्मी जी की मूर्ति खरीदते समय ध्यान रखें कि उनके हाथ से सिक्के गिर रहे हो। इन लक्ष्मी को धन लक्ष्मी कहा जाता है, धन लक्ष्मी का पूजन घर में धन-धान्य और समृद्धि लाता है।

7- उल्लू के बजाय, हाथी या कमल के आसन पर विराजमान लक्ष्मी जी की मूर्ति का पूजन करना लाभदायक होता है।

8- दीपावली पर मिट्टी की बनी मूर्ति का पूजन करना सबसे शुभ माना जाता है, आप अष्टधातु, पीतल या चांदी की मूर्ति का भी पूजन कर सकते हैं। लेकिन प्लास्टर ऑफ पेरिस या प्लास्टिक की मूर्ति का पूजन नहीं करना चाहिए।